cash for queryJai Anant, Mahua Moitra,Darshan Hiranandani, Nishikant Dubey
Spread the love

महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) Cash for Query Case 

पश्चिम बंगाल की कृष्णा नगर संसदीय क्षेत्र से तृणमूल कांग्रेस की संसद सदस्य महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) एक पूर्व इन्वेस्टमेंट बैंकर जो पहली बार टीएमसी के टिकट पर सांसद चुनकर संसद भवन पहुंची  थी और 78 महिला सांसदों में से एक थी ल लोकसभा के शीतकालीन सत्र में  शुक्रवार के दिन 8 दिसंबर 2023 को  महुआ मोइत्रा की संसद सदस्यता  कैश फॉर क्वेरी (cases for query) केस में रद्द कर दी गई है l

Mahua Mitra
Cash For Query Case

क्या है पूरा मामला

 यहां हम जानते हैं कि आखिरकार पूरा मामला क्या है इतने दिनों से सारे न्यूज़ चैनल पर छाया हुआ यह मामला है और आप सभी को शायद ज्ञात भी हो परंतु फिर से आज हम पूरे मामले को प्रारंभ से समझते हैं ।

महुआ मोइत्रा के एक मित्र थे जिनका नाम था जय अनंत (Jai Anant Dehadrai) जिन्होंने बीजेपी  के एक सांसद निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey)को यह बता दिया कि उनकी मित्र महुआ मोइत्रा संसद सदन में प्रश्न पूछने के पैसे लेती हैं । अब आप के मन में यह प्रश्न होगा की कोई सदन में प्रश्न पूछने के पैसे क्यों देगा और कोई सांसद सदन में प्रश्न पूंछने के पैसे कैसे ले सकता है ? तो आपकी जानकारी के लिए बता दें की सदन के वर्ष में तीन सत्र होते हैं।

  • बजट सत्र  (फरवरी – मई )
  • मानसून सत्र (जुलाई – अगस्त )
  •  शीतकालीन सत्र ( नवंबर – दिसंबर )  

संसद के इन सत्रों  के दौरान संसद सदस्य मंत्री परिषद से प्रश्न पूछते हैं ,और चुकी इन प्रश्नों का जवाब मंत्रिपरिषद अर्थात भारत सरकार देती है।  तो जवाब में दी गई जानकारी बहुत ही विश्वसनीय होती है l यहां तक की आप सदन में दी गई जानकारी का प्रयोग डॉक्यूमेंटेशन में और यहां तक की कोर्ट में भी भी कर सकते हैं l क्योंकि सरकार द्वारा यह जानकारी  दी जाती है और इसका लिखित में पूरा रिकॉर्ड रखा जाता है। 

अब संसद की यह प्रश्न पूछने की प्रक्रिया इसलिए होती है जिसमें संसद सदस्य भारत सरकार द्वारा चलाई जाए रही योजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी हासिल कर सकें या फिर संसद सदस्य अपने क्षेत्र की समस्याएं सदन में सरकार के समक्ष पेश कर सके ।  जिसके द्वारा संसद सदस्य अपने संसदीय क्षेत्र का अथवा अपने देश का भला कर सके ।  ये प्रश्न  सदन में पाहिले से प्रस्तुत करने होते हैं । जिन पर सम्बंधित मंत्रालय पूँछी गई जानकारी एकत्र कर सदन के सामने प्रश्न का उत्तर देता है। यह प्रश्न पूंछने के लिए ऑनलाइन कम्युनिकेशन के लिए हर संसद सदस्य के पास एक इंटरनेट अकाउंट का लॉगिन आईडी पासवर्ड होता है ।   

महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) पर आरोप  यह है कि उन्होंने यह प्रश्न अपने मित्र और देश के बड़े बिजनेसमैन दर्शन हीरानंदानी (Darshan Hiranandani)को लाभ पहुंचाने के लिए सदन में पूछे गए । अब प्रश्न यह उठता है सदन में पूछे गए प्रश्नों से दर्शन हीरानंदानी को क्या फायदा हो सकता है। क्योंकि हीरानंदानी और गौतम अडानी व्यापारिक प्रतिद्वंदी है और और महुआ मोइत्रा ने दर्शन हीरानंदानी के कहने पर सदन में गौतम अडानी और उनके अदानी ग्रुप पर प्रश्न किया जिसके जवाब भारत सरकार ने सदन में पेश किए। महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) उन सवालों के जवाब मैं दी गई जानकारी को दर्शन हीरानंदानी को देती थी, ऐसा आरोप  इन पर लगाया गया।  बात यही नहीं थामती उनके मित्र जय अनंत (Jai Anant Dehadrai) द्वारा बताया गया की इनके द्वारा केवल सदन में पेश किए हुए जवाब ही हीरानंदानी तक नहीं पहुंच गए, बल्कि एक संसद सदस्य को जो कॉन्फिडेंशियल लॉगिन आईडी पासवर्ड भारत सरकार द्वारा दिया जाता है (संसद सदस्य और संसद के बीच ऑनलाइन कम्युनिकेशन के लिए), वह भी महुआ मोइत्रा ने दुबई में रहने वाले अपने व्यापारी मित्र दर्शन हीरानंदानी को दे रखा है।

अब प्रश्न यह उठता है, की यदि भारत सरकार संसद सदस्यों को ऑनलाइन कम्युनिकेशन के लिए यह लोगों लॉगिन आईडी पासवर्ड इसलिए दिया जाता है की सदस्य देश की जनता की सेवा के लिए जनता से जुड़े सवाल सरकार से पूछ सके। परंतु महुआ मोइत्रा द्वारा यह लॉगिन आईडी पासवर्ड किसी अन्य व्यक्ति को देकर देश की सुरक्षा को ताक पर रख दिया l और इसके बदले टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा दर्शन हीरानंदानी से महंगे गिफ्ट और पैसा लिया करती थी।

इस तरह टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा पर दो आरोप लगे 

  • राष्ट्रीय सुरक्षा का आरोप
  • पैसे लेकर प्रश्न पूछने का आरोप (Cash for Query)

टाइमलाइन

14 अक्टूबर 2023 : जय अनंत (Jai Anant Dehadrai) ने सीबीआई में महुआ मोइत्रा के खिलाफ मनी लांड्रिंग और और भ्रष्टाचार का केस दर्ज कराया l

 

जब बीजेपी सांसद निशांत दुबे को सीबीआई केस दर्ज होने की जानकारी प्राप्त हुई तो वह :

 

15 अक्टूबर 2023 

को लोकसभा सभापति श्री ओम बिरला के समक्ष जाकर टीएमसी सांसद सदस्य के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की। 

एथिक्स कमेटी (ethics committee) को शिकायत सोप गई। 

और महुआ मोइत्रा इसके खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में मानहानि की शिकायत करती हैं। 

यहां आपकी जानकारी के लिए बताना आवश्यक है देश की संसद के पास अर्ध न्यायक शक्ति भी होती है।  जिसे Quasi-Judicial Body कहा जाता है क्योंकि संसद इसके अलावा भी कई कार्य करती है जैसे कि देश की संसद विधायक पालिका तो है ही।  और सदन को सुचारू रूप से चलने के लिए सदन में कई प्रकार की समितियां (committees) होती है। और ऐसी ही  सांसद की आचरण की जांच करने के लिए एक आचरण समिति होती है जिसे एथिक्स कमेटी (ethics committee) भी कहते हैं।    

18 अक्टूबर 2023

लोकसभा ने सांसद निशिकांत दुबे को नोटिस जारी किया जिसमें कहा गया की 26 अक्टूबर को आकर अपनी शिकायत सदन के समक्ष पेश करें। 

 

19 अक्टूबर 2023

व्यापारी दर्शन हीरानंदानी ने दुबई में इंडियन काउंसलेट को एफिडेविट देकर यह कहा कि टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा द्वारा लॉगिन आईडी पासवर्ड उनको सोपा गया था। 

 

21 अक्टूबर 2023

निशिकांत दुबे ने यह दावा किया की मोइन मित्र की लोकसभा सांसद आईडी दुबई में खोली गई। 

इस तरह संसद सदस्य की लॉगिन आईडी पासवर्ड किसी दूसरे देश से ऑपरेट किए जाने की दावे से राष्ट्रीय सुरक्षा पर और भी गहरे बादल छा गए। 

 

27 अक्टूबर 2023

महुआ मोइत्रा एक टीवी इंटरव्यू में यह स्वीकार करती हैं, की हां उन्होंने व्यापारी दर्शन हीरानंदानी से गिफ्ट लिए थे और उनको अपना संसदीय लॉगिन आईडी और पासवर्ड सोप था। 

 

31 अक्टूबर 2023

महुआ मोइत्रा यह आरोप लगाती हैं, कि एप्पल कंपनी की तरफ से उन्हें कॉल किया गया और मेल प्राप्त हुआ जिसके अनुसार उनका फोन फोन केंद्र सरकार हैक करने की कोशिश कर रही है। 

 

2 नवंबर 2023

महुआ मोइत्रा एथिक्स कमेटी (Ethnics Committee) के सामने पेश हुई। 

कमेटी के सामने पेश होने के बाद बीच में ही मिस मोहित्र वॉक-आउट कर बाहर आ जाती है और यह आरोप लगाती हैं की मुझे ऐसे सवाल पूछे गए जो एक महिला के सम्मान को बहुत ठेस पहुंचाते हैं। 

 

9 नवंबर 2023

एथिक्स कमेटी (Ethnics Committee) ने महुआ मोइत्रा के खिलाफ रिपोर्ट तैयार की जिसमें टीएमसी सांसद को दोषी ठहराया गया।  कमेटी के 6 सदस्यों ने रिपोर्ट के पक्ष में वोट किया। 

 

10 नवंबर 2023

एथिक कमेटी ने लोकसभा सभापती श्री ओम बिरला को अपनी रिपोर्ट सौंपी ।  जिसमें कहा गया कि टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा का आचरण अनैतिक और संसद सदस्य के रूप में ashobhniya  है. इसलिए उनका लोकसभा सांसद बने रहना उपयुक्त नहीं होगा।  इसलिए कमेटी संकल्प करती है कि उन्हें लोकसभा की सदस्यता से निष्कासित कर दिया जाए। 

8 दिसंबर 2023

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) को संसद की सदस्यता से निष्कासित किया गया। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.