vishnudeo saivishnudeo sai chhatisgar cm
Spread the love

एक आदिवासी समाज के प्रतिनिधि को छत्तीसगढ प्रदेश की कमान

Vishnu Dev Sai[/caption]

 छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)  में नए मुख्यमंत्री के चयन के लिए पर्यवेक्षक अर्जुन मुंडा जी और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह द्वारा विष्णुदेव साय (Vishnu Deo Sai) का नाम प्रस्तावित किया गया जिसको पूर्ण बहुमत के साथ विधायक दल लें स्वीकृति दी और छत्तिसगर (Chhattisgarh) का मुख्यमंत्री चुन लिया गया। कयाश लगाई जा रही थी उसको छत्तीसगढ़ राज्य में आज फिर विराम  मिला और मुख्यमंत्री के तौर पर आदिवासी नेता विष्णु देव साय का नाम तय किया गया वैसे अगर देखा जाए तो विष्णुदेव साय पहले भी छत्तीसगढ़ भाजपा के अध्यक्ष रह चुके हैं और एक ऐसा चेहरा जो सरपंच रहे विधायक रहे और संसद रहे। विष्णुदेव साय का 4 बार के संसद 3 बार के विधायक के तौर पर एक लम्बा राजनितिक जीवन रहा है। जैसा कि हम आप सभी को ज्ञात है कि प्रदेश की 32% आबादी आदिवासी है जिस समाज से विष्णुदेव साय आते हैं। इस मौके पर उनकी मां से पूछे जाने पर विष्णुदेव साय जी की मां ने यह कहा कि “ मेरे जीवन का यह सबसे बड़ा क्षण है”। 

विष्णुदेव साय को रमन सिंह जी का करीबी मन जाता है । अमित सह ने  छत्तिसगर विधान सभा चुनाव के वक्त जनता से इनको जितने की अपील की थी कि अगर आप लोग विष्णु साय जी को जीता कर विधायक बनाते हो तो बड़ा आदमी मैं बना दूँगा । अमितशाह ने जो वडा किया वो निभाकर भी दिखाया।

कौन है विष्णुदेव साय (Vishnudeo Sai)

छत्तीसगढ़ के बगिया गांव जो जशपुर जिला में स्थित है एक किसान परिवार में 21 फरवरी 1964  को जन्मे पिता का नाम श्री राम प्रसाद सहाय और माता का नाम श्रीमती जसमणी देवी ।

1991 में श्रीमती कौशल्या देवी से विवाह हुआ ।

उन्होंने हायर सेकेंडरी की शिक्षा लोयोला हायर सेकेंडरी स्कूल कुनकुरी (जशपुर) से संपन्न की ।

महुआ मोइत्रा (49) | संसद सदस्यता जाने के क्या हैं कारण ?

राजनीतिक कैरियर

इसके पहले भी से पहले भी प्रदेश स्तर पर विष्णु देव जी अपनी सेवाएं भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष के रूप में 2020 से 2022 तक दे चुके हैं वह वे पहले मोदी गवर्नमेंट और 16वीं लोकसभा में स्टेट मिनिस्टर रह चुके हैं S

अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत उन्होंने एक सरपंच के तौर पर की और अपने गांव बगिया में निर्विरोध सरपंच बने S

1990 से 1998 :          –  मध्य प्रदेश सरकार में दो बार MLA के तौर पर चुने गए S

1999:                          – में 13 वीं लोकसभा में एमपी के तौर पर चुने गए

1999 से 2014 :           – तक  रायगढ़ से 4 बार सांसद रहे

2019    :                      – 2018 का विधानसभा का चुनाव छत्तिसगर मैं हर ने के बाद बीजेपी  ने किसी भी पुराने सांसद को नहीं दोहराया इस वजह से विष्णु साय                                                        को भी लोकसभा का चुनाव मैं नहीं उतरा गया ।

3 दिसंबर 2023 :        –  मेंबर लागिसलटीवे असेंबली ( MLA)

10 दिसंबर 2023 :     – मुख्यमंत्री छत्तिसगर राज्य

सामर्थ्य और विशेषज्ञता के साथ | कौन हैं मोहन यादव, मध्य प्रदेश के नए मुख्यामंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.